पेनड्राइव का नाम आपने सुना होगा पेनड्राइव का उपयोग किसी भी प्रकार के डाटा को संग्रहण करने के लिए किया जाता है। पेन ड्राइव में एक चिप लगी होती है। उस चिप में आप अपने महत्वपूर्ण डाटा का स्टोर करके एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से ले जा सकते हैं। पेनड्राइव एक प्रकार का डाटा स्टोर चिप है।Pen Drive Kya Hai , और कैसे काम करता है , Pen Drive क्या है , What is Pen Drive and How its Works , What is Pen Drive in Hindi , pen drive का इस्तेमाल कैसे करें? , पेन ड्राइव के क्या उपयोग है
Pen Drive Kya Hai , और कैसे काम करता है , Pen Drive क्या है , What is Pen Drive and How its Works , What is Pen Drive in Hindi , pen drive का इस्तेमाल कैसे करें? , पेन ड्राइव के क्या उपयोग है
जिसमें आप कंप्यूटर या लैपटॉप का डाटा स्टोर कर सकते हैं। पेनड्राइव से डाटा को लैपटॉप या कंप्यूटर में स्थानांतरित कर सकते हैं। कई प्रकार के महत्वपूर्ण दस्तावेज का एक डांटा फॉर्मेट पेनड्राइव में रखा जा सकता है। इस प्रकार पेनड्राइव में डाटा को सहेज कर अपने डाटा को खोने से बचाया जा सकता है। क्योंकि कई बार लैपटॉप और कंप्यूटर में तकनीकी खराबी के कारण डाटा ऑटोमेटिक डिलीट हो जाता है। ऐसे में आप पेनड्राइव की मदद से पुणे डाटा को रिस्टोर कर सकते हैं। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से पेनड्राइव क्या है इसके बारे में बात करेंगे।

Pen Drive क्या है:- पेन ड्राइव एक प्रकार का स्टोरेज ड्राइव है। जिसका उपयोग फाइल ट्रांसफर करने या फाइलों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने में क्या जाता है। पेनड्राइव को एक प्रकार से यूएसबी फ्लैश ड्राइव के नाम से भी जाना जाता है। यह एक प्रकार का पोर्टेबल डिवाइस है। जिसके माध्यम से आप आसानी से फाइल को एक लैपटॉप या एक कंप्यूटर से दूसरे लैपटॉप या दूसरे कंप्यूटर में ट्रांसफर कर सकते हैं। इतना ही नहीं इन डाटा को एक कंप्यूटर से पेन ड्राइव में डालकर दूर लोकेशन पर स्थित दूसरे कंप्यूटर तक आसानी से पहुंचाया जा सकता है।

पेनड्राइव कई तरीके से काम आने वाला एक बेहतरीन डिवाइस है। जिसका उपयोग आज दुनिया में बहुत जगह पर किया जाता है। पेनड्राइव के उपयोग लगातार बढ़ने से कई प्रकार के सीडी तथा फ्लॉपी डिस्क को आसानी से रिप्लेस कर दिया गया है। क्योंकि आज के समय में लोग सीडी का उपयोग करने की बजाय पेनड्राइव जैसे पोर्टेबल डिवाइस का उपयोग करना पसंद करते हैं।

पेनड्राइव आकार में काफी छोटा होता है। इसलिए इस पोर्टेबल डिवाइस को आसानी से carry किया जा सकता है। पेनड्राइव का उपयोग हर प्रकार के प्रोफेशनल कार्य में डाटा को संग्रहित करने में किया जाता है। पेनड्राइव का इस्तेमाल मुख्य तौर पर डाटा स्टोर करने तथा डाटा को ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है। डेटा के तौर पर ऑडियो वीडियो कई प्रकार की फाइल इत्यादि को ट्रांसफर किया जा सकता है।

पेनड्राइव से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदु:- 

1. यह एक प्रकार का पोर्टेबल डिवाइस है। जो प्लास्टिक तथा मेटल इत्यादि से बना हुआ है और यह आकार में छोटा व हल्का होने के कारण इसे आसानी से carry किया जा सकता है।

2. पेनड्राइव की लंबाई 1 सेमी से 6 सेमी तक होती है। पेन ड्राइव का उपयोग करके आप 512mb से लगाकर 128 जीबी तक डाटा को स्टोरेज कर सकते हैं। हालांकि आज के समय में 256 जीबी डाटा स्टोरेज करने वाले पेनड्राइव उपलब्ध हो गए।

3. यह एक प्रकार का पावर यूएसबी पोर्ट से कनेक्ट होने वाला पोर्टेबल डिवाइस है। इसका उपयोग आप कहीं पर भी कर सकते हैं।

पेनड्राइव का उपयोग कैसे करें:- 

पेनड्राइव का उपयोग करना काफी आसान है। इसे बड़ी आसानी से यूएसबी कनेक्टर के जरिए कंप्यूटर से कनेक्ट किया जा सकता है। पेन ड्राइव यूएसबी पोर्ट में इंसर्ट करके आप एक्टिव कर सकते हैं। पेनड्राइव को एक्टिव होने पर कंप्यूटर के स्क्रीन पर एक नोटिफिकेशंस ऑन हो जाएगा। इसका मतलब सीधा सा यह है, कि आपका डाटा स्टोर ड्राइवर कंप्यूटर सिस्टम के साथ कनेक्ट हो गया है। जब एक बार आपका ड्राइव एक्टिव हो जाता है। उसके पश्चात आप डाटा को कंप्यूटर से पेन ड्राइव में और पेनड्राइव से कंप्यूटर में स्थानांतरित कर सकते हैं। पेन ड्राइव में डाटा के ट्रांसफर का समय बहुत कम होता है। इसीलिए पेनड्राइव का उपयोग आज के समय में सबसे अधिक किया जाता है।

आज के समय की बात की जाए तो अलग-अलग कंप्यूटर के सिस्टम मार्केट में उपलब्ध है। जिनके आधार पर पेनड्राइव को अलग-अलग तरीके से अपडेट किया गया है। पेनड्राइव को यूएसबी पोर्ट के माध्यम से आसानी से कनेक्ट किया जा सकता है। पेन ड्राइव में कई प्रकार के कंप्यूटर सिस्टम तथा विंडो को भी इंस्टॉल करके रखा जाता है और जो कंप्यूटर मैकेनिक होते हैं। वह लोग कंप्यूटर खराब होने पर नई विंडो पेनड्राइव के जरिए ही अपलोड करते हैं।