आज के समय में कंप्यूटर का उपयोग बढ़ता जा रहा है। दरअसल कंप्यूटर अकेला काम नहीं कर सकता है। कंप्यूटर के कई प्रकार के प्रोग्रामिंग सिस्टम तथा सॉफ्टवेयर होते हैं। जिसकी वजह से कंप्यूटर काम करने के लायक बनता है। कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर दोनों अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं,सॉफ्टवेयर उन्हें कहा जाता है। जो मनुष्य की आंखों से नहीं देखे जा सकते हैं। लेकिन कंप्यूटर में अपना महत्वपूर्ण रोल निभाते हैं।
What is Software in Hindi , What is Software & its Types , Software kya hai , Software kise kahte hain, Software kitni tarah ke hote hai , सॉफ्टवेयर के प्रकार , types of Software
 सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का एक अहम पार्ट होते हैं। जो कंप्यूटर में होने वाले सारे डेटा को प्रोसेस करने में तथा उन्हें मॉनिटर के जरिए दिखाने में मदद करते हैं। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से सॉफ्टवेयर क्या है, What is Software in Hindi , What is Software & its Types , Software kya hai , Software kise kahte hain, Software kitni tarah ke hote hai , सॉफ्टवेयर के प्रकार , types of Software , इसके बारे में बात करेंगे।

Software kya hai :-  सॉफ्टवेयर का मतलब होता है। प्रोग्राम का वह समूह जो कंप्यूटर को किसी विशेष कार्य के लिए दिशा निर्देश देता है। कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में होने वाले सभी कार्यों के दिशा निर्देश जारी करता है और उन्हीं दिशा निर्देश के आधार पर कंप्यूटर कार्य करने के लिए सक्षम होता है। इतना ही नहीं कंप्यूटर में लगे सॉफ्टवेयर कंप्यूटर को काम करने की क्षमता प्रदान करते हैं। मतलब साधारण शब्दों में कहा जाए तो सॉफ्टवेयर के बिना कंप्यूटर एक निर्जीव है। सॉफ्टवेयर के बिना कंप्यूटर अधूरा है। कंप्यूटर को सही तरीके से कार्य करने के लिए सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है।

सॉफ्टवेयर को मनुष्य की आंखों से नहीं देख सकता है और नहीं हाथ से छू सकता है। सॉफ्टवेयर का भौतिक अस्तित्व नहीं होता है। लेकिन यह कार्य करने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। सॉफ्टवेयर एक प्रकार की आभासी की वस्तु है। जिसे केवल समझा जा सकता है। देखना और छुना असंभव है।

जो लोग कंप्यूटर के बारे में थोड़ा बहुत जानते हैं। उन्हें सॉफ्टवेयर के बारे में अवश्य पता होगा, सॉफ्टवेयर नहीं होने पर आपका कंप्यूटर एक मृत शरीर के समान है। जो केवल धातुओं बक्सा कहा जा सकता है। यदि कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर नहीं होते हैं। तो कंप्यूटर किसी प्रकार के कार्य को संपन्न करने में सक्षम नहीं है। कंप्यूटर में लगी अलग-अलग प्रकार के सॉफ्टवेयर अलग-अलग कार्य को संपन्न करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। सॉफ्टवेयर की मदद से ही कंप्यूटर अपना मनपसंद कार्य आसानी से कम समय में पूर्ण निपुणता के साथ कर सकता है।

सॉफ्टवेयर के विभिन्न प्रकार:-  कंप्यूटर में विभिन्न प्रकार के कार्यों को करने के लिए अलग-अलग प्रकार के सॉफ्टवेयर उपयोग में आते हैं। अलग-अलग प्रकार के सॉफ्टवेयर की मदद से अलग-अलग प्रकार के कार्य कंप्यूटर आसानी से कर सकता है। कार्य की जरूरत के हिसाब से अलग-अलग पर बनाए गए हैं। सॉफ्टवेयर को मुख्यतः दो भागों में बांटा गया है। इन दो भागों के कुछ सब पार्ट्स भी है।

1.)  System Software:- कंप्यूटर का सिस्टम सॉफ्टवेयर एक प्रकार का महत्व पूर्ण सॉफ्टवेयर माना जाता है। यह सॉफ्टवेयर जो हार्डवेयर का नियंत्रण करता है। इसके अलावा कंप्यूटर का जो सिस्टम सॉफ्टवेयर होता है। वह हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच कई प्रकार की क्रिया को करने में मदद करता है। सिस्टम सॉफ्टवेयर कई प्रकार के होते हैं।

A.ऑपरेटिंग सिस्टम :- यह एक कंप्यूटर का ऐसा प्रोग्राम होता है। जो अन्य कंप्यूटर प्रोग्रामों को संचालन करने तथा एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर के बीच कार्य करने के लिए सक्षम बनाता है।

B. Utilities :- यह एक प्रकार का सर्विस प्रोग्राम कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है जो कंप्यूटर के लिए सुरक्षा प्रदान कर सकता है।

C. Device Drivers :- यह विशेष प्रकार का प्रोग्राम सॉफ्टवेयर होता है। जो इनपुट और आउटपुट उपकरणों को कंप्यूटर से जोड़ता है।

2. Application Software:-  एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में एक अलग प्रकार की भूमिका निभाते हैं। जो कंप्यूटर में चलने वाली एप्लीकेशन को कार्य करने के लिए सक्षम बनाते हैं। एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर वक्ताओं को किसी भी प्रकार की कार्य करने की आजादी देने में सक्षम है। एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होते हैं।

A. Basic Application :- यह एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर जनरल उपयोग सॉफ्टवेयर कहलाता है। यह सॉफ्टवेयर रेगुलर कार्यों को संपन्न करने में मदद करता है।

B. Specialized Application:- यह एक विशेष उद्देश्य सॉफ्टवेयर है। जो कंप्यूटर में किसी खास कार्यों को करने के लिए उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग किसी प्रकार के विशेष प्रोग्राम को शुरू करने के लिए किया जाता है। उदाहरण के तौर पर बात की जाए तो Specialized एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर जो कई प्रकार के एकाउंटिंग कार्य, बिलिंग कार्य, रिपोर्ट कार्ड वर्क, रिजर्वेशन सिस्टम इत्यादि। मुख्य उद्देश्य कार्यों को संपन्न करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं